क्या गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान मशरूम खाना सुरक्षित है प्रेगनेंसी के दिनों में और बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग करवाने के दौरान मशरूम खाना चाहिए? एक्सपर्ट्स की राय क्या है, जानें

0
43

नई दिल्ली: शोरूम जैसा तो एक तरह का फफूंद यानी कवक है लेकिन इडिबेल यानी आप इसे खा सकते हैं। साथ ही मशरूम, विटामिन डी, विटामिन बी, आयरन, प्रोटीन, फाइबर और ढेर सारे एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर होता है। शोरूम (मशरूम) में कैलोरीज बेहद कम होती हैं और यह अच्छे क्वॉलिटी वाले प्रोटीन (प्रोटीन) और फ़ाइबर (फाइबर) का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है। लगभग 100 ग्राम वाइट बटनरूम में सिर्फ 22 कैलोरीज होती हैं। कुछ सहित देखें तो शोरूम को न्यूट्रिशन का पावर हाउस कहा जा सकता है। लेकिन क्या गर्भवती महिला के लिए और बच्चे को अपना दूध पिलाने वाली महिला के लिए मशरूम खाना सेफ है?

गर्भवती महिलाएं मशरूम खाती हैं

एक्सपर्ट्स की मानें तो कुछ मशरूम ऐसे भी होते हैं जिन्हें खाने के बाद कुछ लोगों को एलर्जी (एलर्जी) हो सकती है या फिर जी मिचलाने, उल्टी आने, डायरिया जैसी परेशानीें देखने को मिल सकती हैं। लिहाजा अगर आप प्रेगनेंसी (गर्भावस्था) के दौरान भी मशरूम खाना चाहता है तो आपको बहुत अधिक सतर्क रहने की जरूरत है ताकि किसी भी तरह के साइड इफेक्ट्स का सामना न करना पड़े। साथ ही इन बातों का भी ध्यान रखें:

ये भी पढ़ें- महिला की स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए 2 बच्चों के बीच कितना एज गैप होना चाहिए, जानें

– अगर आप प्रेगनेंट होने से पहले से ही मशरूम खाती आ रहे हैं और आपको कभी कोई एलर्जी या साइड इफेक्ट्स नहीं हुए हैं तो आप प्रेगनेंसी के दौरान भी मशरूम खाना जारी रख सकते हैं, लेकिन बहुत अधिक नहीं, कम मात्रा में ही।

– प्रेगनेंसी में पहली बार मशरूम खाना शुरू न करें क्योंकि हो सकता है कि आपको किसी तरह की एलर्जी या साइड इफेक्ट (साइड इफेक्ट) हो जाए जिसके बारे में आपको पहले से पता न हो।

– ऑस्टररूम, क्रेमिनी और बटन- ये 3 शोरूम आम तौर पर सेफ माने जाते हैं और अगर ये कहीं से डैमेज नहीं हैं तो आप इनका सेवन कर सकते हैं।

ये भी पढेँन- प्रेगनेंट होने में मुश्किलें आ रही हैं तो डाइट में जिंक को शामिल करें

– uncroom (कच्ची मशरूम से बचें) तो भूल से भी न खाएं। सिर्फ गर्भवती महिलाओं को ही नहीं, बल्कि सामान्य लोगों को भी बहुत जल्दी नहीं खाना चाहिए क्योंकि उसे पचाना बेहद मुश्किल होता है। इसके अलावा कच्चे मशरूम में कुछ कैंसरकारी विषाक्त पदार्थ भी होते हैं जो पक जाने के बाद समाप्त हो जाते हैं। लिहाजा मशरूम को खाने से पहले उसे अच्छी तरह से पकाना बेहद जरूरी है। अधपका भी गर्भवती महिलाओं को नुकसान पहुंचा सकता है।

– इसके अलावा शोरूम की एक वरायटी में मैजिकरूम (मैजिक मशरूम) है। इसका सेवन भी गर्भवती महिलाओं को नहीं करना चाहिए क्योंकि मशरूम की इस वैरायटी में साइलोसाइबिन पाया जाता है जिसकी वजह से भ्रम की स्थिति पैदा होना, मांसपेशियों में कमजोरी आना, सिर चकराना, जी मिचलाना और उल्टी जैसी समस्याएँ हो सकती हैं। लिहाजा जंगली मशरूम और मैजिकरूम का सेवन बिलकुल न करें।

– अगर प्रेगनेंसी में मशरूम खाना ही चाहते हैं तो बाजार से ताजा मशरूम चाहते हैं और इस बात का ध्यान रखें कि उस पर कहीं से भी नोनिश न हो या अंक के मार्कर न हों।

ब्रेस्टफीडिंग प्रदान करने वाली महिलाएं भी सतर्क रहें

जहां तक ​​ब्रेस्टफीडिंग (स्तनपान) करवाने वाली महिलाओं का सवाल है तो उन्हें भी अपनी डाइट में वही गर्भवती महिलाओं को जो गर्भवती महिलाओं को बरतती हैं ताकि उनके दूध के माध्यम से बच्चे तक कोई भी हानिकारक चीज न पहुंच जाए।

सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here